केदारनाथ मंदिर का इतिहास और तथ्य

केदारनाथ मंदिर का इतिहास और तथ्य- Kedarnath Temple History in Hindi

केदारनाथ मंदिर का इतिहास और तथ्य: In this article, we are providing information about Kedarnath Temple in Hindi- Kedarnath Temple History in Hindi Language. हिस्ट्री ऑफ केदारनाथ टेम्पल | केदारनाथ मंदिर का इतिहास और तथ्य

केदारनाथ मंदिर का इतिहास और तथ्य- Kedarnath Temple History in Hindi

केदारनाथ मंदिर भारत के उतराखंड राज्य के रूद्रप्रयाग जिले में हिमालय की गोद में स्थित है। यह शिवजी के 12 ज्योतिर्लिंगों में से एक है और चार तीर्थ धाम से एक पवित्र धाम भी है। इसका वातावरण प्रतिकुल होने के कारण यह सिर्फ अप्रैल से नवंबर तक ही खुलता है।

Kedarnath Temple History in Hindi

Kedarnath Dham History in Hindi मंदिर की आयु के बारे में कुछ भी निश्चित रूप से नहीं पता है लेकिन यह 1000 वर्ष से एक महत्वपूर्ण तीर्थस्थल रहा है। कहा जाता है कि इसका निर्माण पांडव वंश के जन्मेजय ने करवाया था और आदि शंकराचार्य ने इस मंदिर का जीणोर्द्वार करवाया था। यहाँ पर स्थित शिवलिंग बहुत ही प्राचीन है। वर्तमान मंदिर के हाल ही में बनाया गया है क्योंकि 2013 में आई बाढ़ और भुस्खलन में मंदिर नष्ट हो गया था। सिर्फ उसका मुख्य हिस्सा और गुबंद ही बचा था।

केदारनाथ मंदिर की वस्तु कला | Architecture Information about Kedarnath Temple in Hindi

केदारनाथ मंदिर एक 6 फीट ऊँचे चौकोर चबुतरे पर बना है। यह कत्युरी शैली में कटवा पत्थरों को जोड़ जोड़ कर बनाया गया सुंदर मंदिर है। पत्थरों का रंग भूरा है। इसके मपख्य भाग मंडप और गर्भगृह के तारों तरफ प्रदक्षिणा पथ है। केदारनाथ तीन तरफ से पहाड़ो से गिरा हुआ है और यहाँ पाँच नदियों का संगम भी होता है जिसमें एक मंदाकिनी है। मंदिर के मंडप के बाहर नन्दी वाहन को रूप में विराजमान है। मंदिर की बड़ी धूसर रंग की सीढ़ियों पर पालू या ब्रहमालिपी मे कुछ लिखा है जिसे स्पष्ट रूप से पढ़ना मुश्किल हैं। मुख्य भवन को दोनों तरफ पूजा मुद्रा में मुर्तियाँ है।

मंदिर के पीछे भूरे पत्थरों का एक टॉवर है और गर्भग्रह की अटारी पर सोने का मुलम्मा चढ़ा है। रोज सुबह शिव पिंड को स्नान कराकर घी का लेप किया जाता है और उसके बाद आरती की जाती है। उस समय भक्तजन वहाँ पर पूदा कर सकते हैं।शाम के समय उनका श्रंगार किया जाता है और उस समय दर्शक उन्हें केवल दुर से ही देख सकतो हैं।

#History of Kedarnath Temple in Hindi

केदारनाथ मंदिर से जुड़े कुछ रोचक तथ्य | Kedarnath Temple Information and Facts in Hindi 

  1. केदारनाथ मंदिर समुंद्र से 3581 मीटर की ऊँचाई पर स्थित है।
  2. इस मंदिर के शिवलिंग को स्वयंभू कहा जाता है।
  3. भारत के 12 ज्योतिर्लिंग में से केदारनाथ मंदिर को पाँचवे ज्योतिर्लिंग के रूप में प्रसिद्धी प्राप्त है।
  4. केदारनाथ मंदिर की यात्रा किए बिना बद्रीनाथ मंदिर की यात्रा पूर्ण नहीं मानी जाती है।
  5. केदारनाथ मंदिर के पुजारी मैसुर के जंगम ब्रहामण ही होते हैं।
  6. केदारनाथ मंदिर में त्रिकोण आकार का शिवलिंग है।
  7. केदारनाथ में आखिरी 14 किलोमीटर की यात्रा व्यक्ति को ट्रैकिंग करके करनी पड़ती है।

#History of Kedarnath Temple Uttarakhand in Hindi

Read it also:

2 thoughts on “केदारनाथ मंदिर का इतिहास और तथ्य”

Leave a Comment