जामा मस्जिद दिल्ली का इतिहास और तथ्य

जामा मस्जिद दिल्ली का इतिहास और तथ्य- Jama Masjid History in Hindi

जामा मस्जिद दिल्ली का इतिहास और तथ्य : In this article, we are providing information about Jama Masjid in Hindi- Jama Masjid History in Hindi Language. हिस्ट्री ऑफ जामा मस्जिद | जामा मस्जिद दिल्ली का इतिहास और तथ्य।

 जामा मस्जिद दिल्ली का इतिहास- Jama Masjid History in Hindi

जामा मस्जिद / मस्जिद-ए-जहाँ-नुमा भारत की सबके बड़ी मस्जिद है जो कि पुरानी दिल्ली में स्थित है। यह लाल किले से बस 500 मीटर की दुरी पर है। इस मस्जिद को मस्जिद-ए-जहाँनुमा के नाम से भी जाना जाता है।

Jama Masjid History in Hindi

Jama Majid Itihas जामा मस्जिद का निर्माण कार्य मुगल शासक शाहजहाँ ने 1650 में शुरू करवाया था। इसे बनने में 6 साल का समय लगा था और यह 1656 में बनकर तैयार हुई थी। इसे बनाने में लगभग 10 लाख रूपयो की लागत लगी थी। 2006 में यहाँ पर बम हादसा भी हुआ था लेकिन अल्लाह ने मस्जिद को बचा लिया था। उज़बेकिस्तान के बुखारा के मुल्ला इमाम बुखारी ने 23 जुलाई, 1656 को मस्जिद का उद्घाटन किया था।

जामा मस्जिद की वस्तु कला- Architecture Information about Jama Masjid in Hindi

जामा मस्जिद को हिंदी और मुगल कला के मिश्रण से बनाया गया है। यह लाल बलुआ पत्थरों और संगमरमर से बनी इमारत है। इसका आयाम 261 फीट ×90 फीट है जिसमें एक आंगन भी है। इस आंगन का आयाम 76×66फीट है जहाँ पर एक साथ 25000 लोग नमाज अदा कर सकते हैं। इसमें छोटे छोटे 15 गुबंद 260 स्तंभो पर खड़े हैं।

दिल्ली की जामा मस्जिद में प्रवेश करने के मुख्य दो द्वार है- एक उतर दिशा में और दुसरा दक्षिण दिशा में। पूर्व दिशा में भी एक द्वार है जो केवल शुक्रवार के दिन खुलता है। जामा मस्जिद की दो मीनारें और तीन विशाल गुबंद हैं। इसके आंगन में प्रार्थना स्थल है जिसका फर्श सफेद और काले संगमरमर की पट्टियों से बना हुआ है। प्रार्थना स्थल पर कालीन से सजावट की गई है। इसमें 11 मेहराब बने हुए है जिनमें से बीच वाला थोड़ा बड़ा है और उनके उपर बने हुए गुबंदो को सफेद और कालो संगमरमर से सजाया गया है।

Jama Masjid Information and Facts in Hindi | जामा मस्जिद से जुड़े रोचक तथ्य

  1. इस जामा मस्जिद को जामा भी कहा जाता है जिसका अर्थ होता है शुक्रवार।

2. जामा मस्जिद शहाँजहाँ द्वारा बनवाई गई आखिरी ईमारत हैं।

  1. कथा के अनुसार इसकी दिवारों को इस तरह बनाया गया था कि भूकंप आने पर वो बाहर की तरफ गिरे।

इसे भी पढ़ें : विश्व का सबसे पुराना खेल कौनसा है।

1 thought on “जामा मस्जिद दिल्ली का इतिहास और तथ्य”

Leave a Comment