इंडिया गेट का इतिहास और तथ्य- India Gate History in Hindi

इंडिया गेट का इतिहास और तथ्य- India Gate History in Hindi

In this article, we are providing information about India Gate in Hindi- India Gate History in Hindi Language. हिस्ट्री ऑफ इंडिया गेट | इंडिया गेट का इतिहास और तथ्य

इंडिया गेट का इतिहास और तथ्य- India Gate History in Hindi

इंडिया गेट दिल्ली के राजपथ पर स्थित 43 मीटर ऊँचा द्वार है। इसे अखिल भारतीय युद्ध स्मारक के नाम से भी जाना जाता है। पहले इसे किंगस्वे के नाम से जाना जाता था। यह भारत का बहुत ही ऐतिहासिक स्मारक है।

History of India Gate in Hindi

इंडिया गेट का निर्माण कार्य सन् 1921 में शुरु हुआ था और यह 1931 में बनकर तैयार हुआ था। अंग्रेजी शासकों ने इस स्मारक का निर्माण उन 90000 सैनिकों की याद में करवाया था जो ब्रिटिश सेना में शामिल होकर प्रथम विश्व युद्ध और अफगान युद्ध में शहीद हो गए थे। पहले इंटिया गेट के स्थान से रेलवे लाईन गुजरती थी जिसे बाद में यमुना नदी ते किनारे स्थानांतरित कर दिया गया था।

इंडिया गेट की वस्तु कला- Architecture Information on India Gate in Hindi

इंडिया गेट का डिजाईन सर लुटियन ने तैयार किया था। इसका व्यास 625 मीटर है और इसका षट्भूजीय क्षेत्र 306000 वर्ग मीटर में फैला हुआ है। इंडिया गेट को लील पीले बलुआ पत्थरो से बनाया गया है। इस द्वार पर युनाईटिड किंगडम के सैनिक , अधिकारियों सहित 13300 सैनिकों का नाम लिखा हुआ है। इंडिया गेट के सामने जॉर्ज पंचम की मुर्ति थी जिसे बाद में हटाकर कॉरपोरेशन पार्क में रख दिया गया था। अब वहाँ उस मूर्ति की निशानी मात्र एक छतरी लटकी हुई है। इसकी मेहराब के नीचे अमर ज्योति को स्थापित की गई है। सैनिकों की राईफल के ऊपर टोपी रखी गई है जिसके चारों कोनो पर हमेशा ज्योति जलती रहती है।

India Gate Information and Facts in Hindi | इंडिया गेट से जुड़े रोचक तथ्य

  1. यह दुनिया का सबसे बड़ा युद्ध स्मारक है।
  2. इसकी नींव 1921 में ड्यूक ऑफ कनॉट ने रखी थी।
  3. अमर ज्योति को सर्वप्रथम 1972 में गणतंत्र दिवस के मौके पर भारत की प्रधानमंत्री श्रीमति इंदिरा गाँधी ने जलाया था।
  4. हर साल 26 जनवरी को इंडिया गेट के सामने गणतंत्र दिवस की परेड करवाई जाती है।

ध्यान दें– प्रिय दर्शकों India Gate History in Hindi ( Article ) आपको अच्छा लगा तो जरूर शेयर करे।

Read it also:  भारत का नया संसद भवन

2 thoughts on “इंडिया गेट का इतिहास और तथ्य- India Gate History in Hindi”

Leave a Comment